Bihar Politics: UP की लोकसभा सीट को लेकर बिहार में मचा सियासी घमासान, जानिए इसके पीछे की वजह

LSChunav     Aug 05, 2023
शेयर करें:   
Bihar Politics: UP की लोकसभा सीट को लेकर बिहार में मचा सियासी घमासान, जानिए इसके पीछे की वजह

लोकसभा 2024 के चुनावों को लेकर अभी से सियासी घमासान मचा हुआ है। बिहार के मंत्री श्रवण कुमार ने कहा कि यूपी के कार्यकर्ता नीतीश कुमार के फूलपुर से चुनाव लड़ने की मांग कर रहे हैं।

अगले साल यानी की 2024 के लोकसभा चुनाव को लेकर सियासी घमासान मचा हुआ है। लेकिन उत्तर प्रदेश की एक लोकसभी सीट को लेकर बिहार के राजनीतिक गलियारों में काफी चर्चा हो रही है। हालांकि यूपी की इस सीट पर बिहार में चर्चा होना थोड़ा अजीब लगता है। बता दें कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार यूपी के फूलपुर क्षेत्र से चुनाव लड़ने जा रहे हैं। ऐसे में बिहार के मंत्री श्रवण कुमार ने कहा कि यूपी के कार्यकर्ता नीतीश कुमार के फूलपुर से चुनाव लड़ने की मांग कर रहे हैं। 


बिहार में क्यों छिड़ी चर्चा

विपक्षी दलों की मानें तो यूपी से नीतीश कुमार चुनाव लड़ेंगे या नहीं यह गठबंधन यानी की I.N.D.I.A पर पूरी तरह से निर्भर करता है। फूलपुर के जातीय समीकरण और लोकसभा चुनाव के परिणामों पर यदि गौर किया जाए तो नीतीश कुमार द्वारा इस सीट से चुनाव लड़ा जाएगा तो यह मुकाबला काफी दिलचस्प हो जाएगा। फूलपुर सीट पर जेडीयू की नजर नीतीश के स्वजातीय वोटों के कारण है। इस सीट पर सबसे ज्यादा मुसलमान, पटेल और यादव वोटर हैं। 


फूलपुर से चुनाव लड़ेंगे नीतीश

सिर्फ जातीय समीकरण को साधकर भाजपा को मात देना आसान बात नहीं है। वहीं अगर नीतीश कुमार यूपी से चुनाव लड़ते हैं तो यह उनका बिहार से पहला चुनाव होगा। इसके कोई शक नहीं है कि नीतीश केंद्रीय मंत्री रह चुके हैं। वहीं नीतीश बिहार के लंबे समय तक सीएम रह चुके हैं। लेकिन जेडीयू में उत्तर प्रदेश चुनाव लड़ती है, लेकिन अब तक पार्टी को बड़ी सफलता नहीं मिली है।


प्रशांत किशोर बताया सच

चर्चित चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने इस चर्चा को बेकार बताया है। प्रशांत किशोर ने कहा कि नीतीश अपने जीवन में कोई भी चुनाव लड़ने की हिम्मत नहीं कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि जितनी समझ चुनावों की उन्हें है, ऐसे में उन्हें नहीं लगता है कि नीतीश कुमार चुनाव लड़ने की हिम्मत कर सकते हैं। अगर आप फूलपुर की बात करते हैं, तो जो नीतीश बिहार में चुनाव लड़ने की हिम्मत नहीं है। नीतीश आखिरी बार चुनाव कब ल़ड़े थे। यह भी किसी को याद नहीं है। वर्षों पहले नीतीश कुमार ने चुनाव लड़ना छोड़ दिया है। 


कब-कौन जीता फूलपुर सीट

साल 1962 में फूलपुर से राममनोहर लोहिया ने नेहरू को चुनौती दी थी। इसके अलावा पूर्व प्रधानमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह और जनेश्वर मिश्र भी इस सीट से जीत हासिल कर सकते हैं। 20 संसदीय चुनाव में फूलपुर पर कांग्रेस पार्टी का 7 बार कब्जा रहा है। खुद जवाहर लाल नेहरू भी यहां से तीन बार चुनाव जीत चुके हैं। वहीं पांच बार सपा ने भी यहां से जीत हासिल की है। साल 2014 में भाजपा के प्रत्याशी ने जीत हासिल की थी।